Swasthya Mantra Jap For Pujya Asharamji Bapu

पूज्य गुरुदेव के उत्तम स्वास्थ्य, दीर्घ आयु के निमित्त साधकों के द्वारा मंत्र का जपानुष्ठान

संभव हो तो स्थानीय आश्रमों में, सत्संग भवन में अथवा किसी साधक के घर में  सामूहिक रूप से जप करें । यदि संभव ना हो तो प्रत्येक साधक अपने-अपने घर पर भी कर सकते हैं । इन दिनों में हो सके तो अनुष्ठान के नियमों का यथासंभव पालन करें । आश्रम से प्रकाशित ‘मंत्रजाप महिमा एवं अनुष्ठान विधि‘ पुस्तक का सहयोग ले सकते हैं ।

सर्वरोगनाशक मंत्र व संकल्प
संकल्प : मेरे पूज्य गुरुदेव संत श्री आशारामजी बापू स्वस्थ हो रहे हैं और स्वस्थ हो रहे हैं और स्वस्थ्य हो रहे हैं । पूर्ण स्वस्थ… ॐ ॐ ॐ… पूर्ण निरोग… ॐ ॐ ॐ…
मेरा यह दृढ़ संकल्प ब्रह्मांड व्यापी हो रहा है । हरि ओम्मा… हरि ओम्मा… हरि ओम्मा…
मंत्र :
अच्युताय गोविन्दाय अनन्ताय नाम भेषजात् ।
नश्यन्ति सर्व रोगाणि सत्यं सत्यं वदाम्यहम् ।।

Jap Mala for Swasthya Mantra Jap

उत्तम स्वास्थ्य प्रदायक एवं समस्त आपत्ति विनाशक धर्मराज मंत्र
विनियोग :
अस्य श्री धर्मराज मन्त्रस्य वामदेव ऋषिः गायत्री छन्दः शमन देवता अस्माकं
सद् गुरु देवस्य संत श्री आशारामजी महाराजस्य
उत्तम स्वास्थ्यर्थे सकल आपद् विनाशनार्थे च जपे विनियोगः ।
धर्मराज मंत्र :-
ॐ क्रौं ह्रीं आं वैवस्वताय धर्मराजाय भक्तानुग्रहकृते नमः ।

महामृत्युंजय मंत्र विनियोग :-
ॐ अस्य श्री महामृत्युंजय मंत्रस्य वशिष्ठ ऋषिः
अनुष्टुप् छंदः श्री महामृत्युंजय रुद्रो देवता, हौं बीजं, जूँ शक्तिः, सः कीलकम्,
श्री आशारामजी सदगुरुदेवस्य आयुः आरोग्यः यशः कीर्तिः पुष्टिः वृद्ध्यर्थे जपे विनियोगः ।
महामृत्युंजय मंत्र :
ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् ।
उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ।। ॐ स्वः भुवः भूः ॐ सः जूं हौं ॐ