पूज्य बापूजी के कथनानुसार-“गोमाता को हम नहीं पालते गोमाता हमें पालती है |”

निवाई गौशाला द्वारा प्रायोजित इस राष्ट्रव्यापी रचनात्मक तथा सृजनात्मक गोसेवा महाभियान की सुपरिणामकारी सफलता हेतु इसे सत्पुरुषों से अनुमोदित, विवेक के प्रकाश में निम्नलिखित नौ चरणों में विभक्त किया गया।

गौ संरक्षण: आसपास के गांवों की गायों और बूचड़खानों में ले जाए जाने वाले गायों की रक्षा की जाती है। बहरी और गूंगी, अंधी और शारीरिक रूप से अक्षम जो कि घायल हैं, उन गायों को गौशाला में लाया जाता है।

गाय पालन: गौशाला के आस-पास के गाँवों में रहने वाले किसानों को गायों के पालन-पोषण के लिए प्रेरित किया जाता है| इसी प्रकार किसानों को खेत में काम करने के लिए बैल की बेहतर नस्लें प्रदान की जाती हैं।

गाय का प्रजनन: लोगों को गायों की आवश्यक और चिकित्सा देखभाल, पर्याप्त सेवा और देखभाल करने के लिए प्रेरित किया जाएगा, तब जबकि वे गाय को पुनर्जीवित करने के लिए प्रेरित होंगे। गौशालाओं में, उत्तम गुणवत्ता वाली नस्ल के बैल गायों के साथ एकजुट होते हैं और अच्छी नस्ल के बछड़ों को प्राप्त किया जाता है जो सुंदर और दूध देने वाले होते हैं, ताकि गाय माता को त्यागने की प्रवृत्ति समाप्त हो जाए और लोग गायों का पूरे दिल से पोषण करें। यही बात हमारे सभी गौशालाओं में सावधानीपूर्वक की जाती है।

पंचगव्य अनुसंधान और उत्पादन: पूज्य बापूजी की आज्ञा के अनुसार, कई पंचगव्य औषधियों का उत्पादन कार्य, और अन्य उत्पाद जैसे- गौझरण अर्क, गौझरण वटी, मधुमेह की गोलियाँ, पुनर्नवा अर्क, तुलसी अर्क और नीम अर्क आदि का निर्माण योग्य और कुशल आयुर्वेदिक डॉक्टरों की देखरेख में किया जाता है।

आदर्श ग्राम परियोजना: गौशालाओं के माध्यम से और आदर्श गौशाला के तहत – गौ सेवा आयोग द्वारा शुरू की गई आदर्श ग्राम परियोजना| इसके अनुसार, पास के गाँवों को गोद लिया जाता है जिसमें गायों और बछड़ों के लिए गाय के चारे और पानी की व्यवस्था मुख्य रूप से की जाती है।

गौ-संरक्षण: गौशालाओं में गौमाता के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए नियमित यज्ञ किए जाते हैं, ताकि सभी गौमाता सुख से रह सकें।

प्रशिक्षण शिविर: किसानों को गाय के संरक्षण के महत्व के बारे में बताना, हमारे जीवन में गाय की उपयोगिता के बारे में जागरूकता फैलाना, कैसे एक गौमाता एक अनुसंधान, प्रयोगशाला और खुद एक औषधालय है और पूज्य बापूजी का संदेश – हम गायों का पालन पोषण नहीं करते हैं, बल्कि गाय हमारा पोषण करती हैं।”

गाय पर सत्संग: गाय के संरक्षण और पोषण के बारे में प्रेरक कहानियों के माध्यम से जन जागरूकता फैलाई जाती है| इस संबंध में महापुरुषों द्वारा समान शब्दों को साझा करना और उन्हें गाय पालन और सेवा के महत्व और लाभों के बारे में बताना, ताकि लोग जागरूक हों और गायों को कत्लखानों में भेजने से बचें।

Contact Us

Santshree Asharam ji Bapu Gaushala, Newai (tonk bypass NH12), Dist-Tonk, Rajsthan
Mobile : +(91) 9351317991
Landline: +91-1438-223100
Email: gaushala@ashram.org