Bapuji Bad Dada

परम पूज्य संत श्री आशारामजी बापू द्वारा संप्रेक्षित वृक्ष देवता

पृथ्वी पर के साक्षात् कल्पवृक्ष - बड़ बादशाह

वटवृक्ष पर डाली दृष्टि, कर दी अपनी कृपा की वृष्टि ।
परिक्रमा इसकी जो करते, मनोकामना कारज फलते ।।

गुरुदर पर है सब कुछ मिलता, श्रद्धा से जीवन है खिलता ।
ब्रह्मज्ञानी की महिमा भारी, शरण पड़े उनकी बलिहारी ।।

ब्रह्मनिष्ठ लोकसंत परम पूज्य बापूजी ने इस वटवृक्ष को मनोकामनापूर्ति की दिव्य शक्ति प्रदान की है। इसकी परिक्रमा करके लाखों भक्तजनों ने अपनी मनोकामनाएँ पूर्ण की हैं। आप रोगमुक्ति, पुत्रप्राप्ति, धन-लाभ या अन्य कोई मनोकामना पूर्ण करने हेतु सच्ची श्रद्धा से इस वृक्ष की ७ बार परिक्रमा करके कुछ समय सत्संग मंडप में मौन, शांतचित्त होकर बैठें परंतु लौकिक कामनापूर्ति ही जीवन का लक्ष्य नहीं है। अतः आश्रम के आध्यात्मिक स्पन्दनों से समृद्ध वातावरण में सत्संग व साधना के सहारे आनंद, शांत्ति व आंतरिक दिव्यता का अनुभव करके अपना जन्म सफल करें। जन्म -मरण के चक्कर से पार हो जायें।

His Divine Holiness Pujya Bapuji has Invested this plous Banyan Tree with His benign power of fulfilling people’s wishes. Millions of devotees have this far got their wishes fulfilled by circumambulating this spiritually charged tree. Whatever you wish to get-be it relief from some disease, a son, wealth or anything else just circumambulate this Banyan tree seven times with a sincere faith in heart. Then go into the satsang hall and sit there for seven minutes with a tranquil mind. This circumambulation of the divine tree and sitting silently in front of the Guru’s glorious pulpit would relieve you forever from the vicious cycle of birth and death. Avail yourself of the divine vibes permeating the Ashram and attain bliss, peace and your inner divin- ity through satsang and sadhana to make for a truly fulfilling life.

Banyan Tree with Pujya Bapuji
162
Peepal Badshah with Pujya Bapuji
9

बड़ दादा झाँकी

बापूजी के हर आश्रम में अ‌द्भुत हैं बड़दादा । हर समस्या मिटाने का होता यहाँ वादा ।।

करना क्या है? बस नेकी से श्रद्धा रखो भाई। सारे प्रॉब्लेम छू हो जाते  सबके भाई हो या माई ॥

बापूजी से दीक्षा लेकर लोग आश्रम में आते हैं। खाली झोली भर-भर के गुरुकृपा यहाँ वे पाते हैं ।।

बापूजी के शक्तिपात से बड़दादा हैं संपन्न । इसीलिए मन्नत मान लोग होते हैं यहाँ धन्य ।।

कोई भी हो संकट या हो कोई विघ्न-बाधा। हर समस्या सुलझाने को तत्पर हैं बड़दादा ॥

लोग यहाँ आते बड़दादा के गुण गाते। बड़दादा की परिक्रमा कर फूले नहीं समाते ।।

बड़दादा की मिट्टी और जल का ऐसा प्रताप । बड़े बड़े रोग मिटते हैं और छू होता संताप ।।

कैंसर हो या टी.बी. या हो फिर लिवर खराब। कोई-सा भी रोग यहाँ पे ठीक होता है जनाब ।।

श्री आशारामायण पाठ करके फिरते बड़ के फेरे। जीवन में से दूर होते हैं जन्मों के अँधेरे ।।

सच्चे दिल से ध्यान हो या हो दिल से प्रार्थना। बड़दादा की परिक्रमा से मिलती है सुख-संपदा ॥

Videos

Importance

Experiences

मुझे मलेरिया हुआ व अंग्रेजी दवाओं से दोनों किडनियाँ फेल हो गयीं।

मेरा हार्ट और लिवर भी फेल होने लगा। डॉक्टरों ने कहा कि मैं बच नहीं सकता। मेरे भाई सूरत आश्रम आये, बड़दादा की परिक्रमा प्रार्थना की और मिट्टी व जल लिया। मुझे यह मिट्टी लगायी गयी व जल पिलाया गया तो मेरी दोनों किडनियाँ स्वस्थ हो गयीं। अब में पूर्णरूप से स्वस्थ हूँ।

प्रवीण पटेललोडिया (महा.)
गत एक वर्ष से हाथ-पाँव, घुटनों की तकलीफ थी। आधा शरीर मुझे जाम हो गया था, जैसे लकवा हो जाता है। रोज १०० रु. की पेन किलर गोली खाता था। आश्रम में बड़दादा की परिक्रमा कर जल लिया। वह जल सिद्धौषधि का काम कर गया व मैं पीड़ामुक्त  हो गया।
श्री संभाराम सांखलाजोधपुर (राज.)
मेरे पड़ोसी साधक जयसिंह चारण ने कुआँ खुदवाया, किंतु पानी खारा निकला। श्री जयसिंह ने गुरुमंत्र का स्मरण कर, बड़दादा की परिक्रमा करके लाया हुआ जल कुएँ में डाला तो आश्चर्य! कुएँ का पानी मीठा हो गया !
सुरेशचन्द्र शर्माब्यावर (राज.)