Books

Man Ko Seekh (Hindi)
Man Ko Seekh (Hindi)

मन को सीख (हिंदी)

ISBN (Paper Back):978-93-89972-63-4   ISBN (E-Book):978-93-90235-26-1  

"मन को सीख" मनुष्य का मन ही सुख-दुःख, शांति-अशांति, लाभ-हानि, स्वर्ग-नरक की कल्पना करता है और उसी प्रकार की सृष्टि का सृजन करता है । ‘जिसने मन जीता, उसने जग जीता ।’ मन को जीतने का प्रयास करना यही पुरुषार्थ है । मन को महापुरुषों द्वारा बतायी हुई युक्तियों से ही जीता जा सकता है । मन को जीतने के लिए भगवत्पाद साँईं श्री लीलाशाहजी महाराज द्वारा बतायी युक्तियों का संकलन है पुस्तक 'मन को सीख' । इसमें है :            

* क्यों 24 घंटे रखें मन पर जाग्रत पहरा ?

* मन को कभी फुर्सत क्यों न दें ?

* मन को प्रतिदिन दुःखों का स्मरण कराओ

* मन की अटपटी चाल को समझिये

* मन का नशा कैसे उतारें

* कैसे देखें मन को ?

* मन के मायाजाल से ऐसे बचें...

* भोजन के विषय में संतों-महापुरुषों द्वारा बतायी हुईं कुछ ध्यान देने योग्य बातें

* पतित विचारों और पतित कार्यों से बचने के लिए...

* अपने चित्त की समता न खोयें

   * यह भी बीत जायेगा

* मंगलमय दृष्टि रखें

* सत्पुरुषों का सान्निध्य क्यों ?

* विवेक क्या है ?

* आप दुःखी क्यों हैं ?

* यह क्या है साधना या मजदूरी ?

* क्या सत्संग का प्रभाव रक्त पर पड़ता है ?

* साष्टांग दंडवत् प्रणाम किसलिए ?

* विवेकसम्पन्न पुरुष की महिमा

Previous Article इष्टसिद्धि
Next Article Shri Narayan Stuti
Print
548 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.