पौष्टिक सिंघाड़ा

पौष्टिक सिंघाड़ा

सिंघाड़े मधुर, शीतल, वीर्यवर्धक, पित्तशामक तथा रक्त-विकार, जलन और सूजन को दूर करनेवाले, पचने में भारी तथा वात एवं कफ कारक हैं । ये विटामिन बी-1, बी-2, बी-9, सी तथा कैल्शियम, ताँबा, लौह तत्त्व, पोटैशियम, मैंगनीज आदि पोषक तत्त्वों के अच्छे स्रोत हैं । एंटी ऑक्सीडेंट्स का समृद्ध स्रोत होने से सिंघाड़े उच्च रक्तचाप (hypertension) में एवं हृदय के लिए भी लाभकारी हैं ।

सिंघाड़े के आटे से कई प्रकार के पौष्टिक व आरोग्यप्रद व्यंजन बनाये जाते हैं । आटा बनाने हेतु इसकी गिरी को निकालकर धूप में सुखा लें, फिर पिसवा लें । इसे उपवास में भी खा सकते हैं । पाचनशक्ति के अनुसार 20-30 ग्राम सिंघाड़े के आटे से बने हलवे का सेवन करने से श्वेतप्रदर व रक्तप्रदर में लाभ होता है, साथ ही शरीर भी पुष्ट होता है ।

सिंघाड़े का हलवा

100 ग्राम सिंघाड़े के आटे को घी में धीमी आँच पर सुनहरा होने तक भून लें । कढ़ाई को उतार के आटे को ठंडा होने दें । फिर इसमें 1 कप गुनगुना दूध व स्वादानुसार मिश्री मिलाकर धीमी आँच पर पकायें । सिंघाड़े का यह हलवा लौह तत्त्व से भरपूर है । रक्ताल्पता (anaemia) एवं मासिक संबंधी रोगों में उपयोगी होने के साथ यह पौष्टिक और बलप्रद भी है ।

सिंघाड़े की पुष्टिदायी गोलियाँ

सिंघाड़े के आटे को घी में सेंक लें । आटे के समभाग खजूर* को मिक्सी में पीसकर आटे में मिला लें । अब इसे हलका-सा सेंककर बेर के आकार की गोलियाँ बना लें । 2-4 गोलियाँ सुबह चूसकर खायें, थोड़ी देर बाद दूध पियें । इससे अतिशीघ्रता से रक्त की वृद्धि होती है । उत्साह, प्रसन्नता व वर्ण में निखार आता है । गर्भिणी माताएँ गर्भावस्था के छठे महीने से यह प्रयोग शुरू करें । इससे गर्भ का पोषण व प्रसव के बाद मातृदुग्ध में वृद्धि होगी । माताएँ बालकों को हानिकारक चॉकलेट्स की जगह ये पुष्टिदायी गोलियाँ खिलायें ।

पुष्टिकारक खीर

सिंघाड़े का 2 छोटे चम्मच आटा, 1 चम्मच घी, 300 मि.ली. दूध, 100 मि.ली. पानी, स्वादानुसार मिश्री व थोड़ी इलायची लें । सिंघाड़े के आटे को घी डालकर धीमी आँच पर सुनहरा लाल होने तक भून लें । फिर इसमें दूध तथा पानी डाल के पकायें । पकने पर मिश्री व थोड़ी इलायची डालें । यह स्वादिष्ट तथा पौष्टिक खीर रक्तप्रदर, श्वेतप्रदर, शुक्रधातु की दुर्बलता, रक्तपित्त (शरीर के किसी भी भाग से खून आना) आदि समस्याओं में तथा गर्भिणी व प्रसूता माताओं के लिए लाभकारी है । इसके सेवन से वजन व बल की वृद्धि होती है ।

गर्भस्थापक व गर्भपोषक पाक

सिंघाड़ा सगर्भावस्था में अत्यधिक लाभकारी होता है । यह गर्भस्थापक अर्थात् गर्भपात से रक्षा करनेवाला तथा गर्भपोषक है । इसका नियमित और उचित मात्रा में सेवन गर्भस्थ शिशु को कुपोषण से बचाकर स्वस्थ व सुंदर बनाता है । यदि गर्भाशय की दुर्बलता या पित्त की अधिकता के कारण गर्भ न ठहरता हो, बार-बार गर्भस्राव या गर्भपात हो जाता हो तो सिंघाड़े के आटे से बने पाक का सेवन करें ।

सामग्री : 200-200 ग्राम सिंघाड़े व गेहूँ का आटा, 400 ग्राम देशी घी, 100 ग्राम पिसा हुआ खजूर, 100 ग्राम बबूल का पिसा हुआ गोंद, 400 ग्राम पिसी मिश्री ।

विधि : गोंद को घी में भून लें । फिर उसमें सिंघाड़े व गेहूँ का आटा मिलाकर धीमी आँच पर सेंकें । जब मंद सुगंध आने लगे तब पिसा हुआ खजूर व मिश्री मिला दें । पाक बनने पर थाली में फैलाकर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट के रख लें ।

सेवन-विधि : 2 टुकड़े (लगभग 20 ग्राम) सुबह-शाम खायें । ऊपर से दूध पी सकते हैं ।

सावधानियाँ : सिंघाड़ा या उसके आटे का सेवन पाचनशक्ति के अनुसार करें । कफ प्रकृति के लोग इसका सेवन अल्प मात्रा में करें । कब्ज हो तो इसका सेवन न करें ।     

* आश्रम की समितियों के सेवाकेन्द्रों पर उपलब्ध ।

Previous Article सुगंधित, स्वादिष्ट व स्वास्थ्यवर्धक कढ़ी पत्ता
Next Article कोरोना त्रासदी पर विशेष विपदा से पहले लौटें अपनी जड़ों की ओर
Print
2183 Rate this article:
3.3
Please login or register to post comments.

Seasonal Care Tips