जानिये जीरे के विविध लाभ
Ashram India

जानिये जीरे के विविध लाभ

जीरा भूख व रुचि वर्धक, पाचक, तीखा, रुक्ष एवं बल-वीर्य को बढ़ानेवाला है । यह बुद्धिवर्धक व आँखों के लिए हितकारी है । उष्ण होने से यह कफ-वातशामक तथा पित्तवर्धक है ।

जीरा रक्त व गर्भाशय को शुद्ध करनेवाला तथा बुखार, अफरा, सूजन, श्वेतप्रदर, उलटी, दस्त, चर्मरोग, रक्तविकार और हृदयरोग में लाभदायी है । यह मल-मूत्र को साफ लाता है तथा अतिरिक्त चरबी व दर्द को कम करता है ।

यह मूत्रवर्धक है । इसका उपयोग पेशाब-संबंधी बीमारियों, जैसे - सूजाक (gonorrhoea)पथरी एवं मूत्रावरोध में किया जाता है । बालकों के पाचन-विकारों में यह अधिक हितकारी है ।

औषधीय प्रयोग

(1) पेट की अनेक समस्याओं में :

* जीरे को सेंक के बनाये गये चूर्ण को रायते या साग-भाजी में मिला के खाने से आँतों में मल की रुकावट से होनेवाली सड़न एवं दुर्गंध दूर होती है । मल के दूषित जलीय अंश का शोषण होकर मल अच्छी तरह बँधा हुआ बाहर आता है । पेट में दूषित वायु का संग्रह, अफरा, कब्ज आदि समस्याओं में भी लाभ होता है ।

* जीरा, काली मिर्च, छोटी हरड़, अजवायन व सेंधा नमक समभाग लें । जीरे को थोड़ा भून लें और शेष सामग्री के साथ पीस के महीन चूर्ण बना लें । 3 ग्राम चूर्ण गुनगुने पानी या शहद के साथ दिन में 1-2 बार लेने से अरुचि, अफरा, पेटदर्द, हिचकी, वातविकार, अपचन आदि में लाभ होता है । (अथवा आश्रम की समितियों के सेवाकेन्द्रों पर उपलब्ध संतकृपा चूर्ण सुबह-शाम 1-1 चम्मच गुनगुने पानी से लें, उपरोक्त समस्याओं में यह विशेष लाभदायी है ।)

* आँतें एवं पाचनक्रिया कमजोर हो जाने से थोड़े-थोड़े दस्त लगते हैं, पेट में दर्द होता रहता है तथा शरीर धीरे-धीरे दुबला-पतला होता जाता है । इस अवस्था में भोजन के बाद भुने हुए जीरे का चूर्ण, काली मिर्च और सेंधा नमक मिलायी हुई छाछ का सेवन करते रहने से लाभ होता है । बवासीर व संग्रहणी में भी लाभ होता है ।

(2) अम्लपित्त (hyperacidity): जीरे, धनिये व मिश्री का समभाग चूर्ण मिला के 2 से 3 ग्राम की मात्रा में दिन में 2 बार सेवन करने से लाभ होता है ।

(3) पेशाब की रुकावट, पेशाब में संक्रमण एवं पथरी में : 1 से 2 ग्राम जीरे के चूर्ण को मिश्री के साथ लेने से लाभ होता है ।   

Previous Article पकी इमली के सेवन के लाभ
Print
878 Rate this article:
4.0
Please login or register to post comments.

Seasonal Care Tips