जोधपुर से पूज्य बापूजी का होली निमित्त पावन सन्देश

 ॐ आनंद ॐ माधुर्य ॐ ॐ 
बड़ी प्रसन्नता से लिखवा रहा हूँ |आज पलाश का रंग तुमने भेजा था , उसी रंग से पूरे शरीर को रगड़कर थोड़ी देर बाद नहाया |बाकि का तुमको भेज रहा हूँ |वह  मिला लेना और सभी पूनम वाले थोड़ा थोड़ा ले जाएँ और दूसरा मिलाकर होली के २-५ दिन  में  ये रंग सर को भी रगड़ना चाहिए | व्यर्थ की गर्मी आगे चलकर तकलीफ न दे अभी निकल जाए | सर दर्द की तकलीफ निकल जाएगी |

आँवला अदरक तुलसी हल्दी पुदीना , इन ५ रसों के मिश्रण वाला आँवला रस गजब का फायदा करता है | फार्मेसी वाले विधि पूर्वक बनाएँ और गुणों का भंडार सभी साधकों को मिले |रविवार व् शुक्रवार छोड़ कर १५-२५ मिली  तक लेने  वाले  को ये ऋषि अमृत का अद्भुत लाभ होगा |  अगर दल चीनी व् अर्जुन छाल   मिला दी जाए  तो हर्तात्तैक का भय भाग जाएगा | 

जो जोधपुर में पूनमधारी  आएँ हैं उनकी तपस्या और व्रत रंग ला रही है  और देश विदेश के साधकों का व्रत और तपस्या  उनकी उन्नति कर रहा है | 

किसी को बुरा मानना , कहना , किसी का बुरा सोचना संतों के सिद्धांतों  के विपरीत है | फिर भी कोई किसी की निंदा करते हैं , आश्रमों तथा साधकों पर आरोप  लगे ऐसी साजिस करता करवाता है उनको भगवान् सद्बुद्धि दे , मंगलकार्य मति दे | जो मंगल करता है , मंगल सोचता है वह  मंगलमय अपने सोऽहं स्वाभाव में सुप्रतिष्ठित होजाता है |  


हनुमान जी के दृढ़  भक्त जूनागढ़ के पास राम नाम  वाले संत  को प्रकट होकर  सोऽहं स्वरुप की साधना बताई थी |हनुमानजी राम नाम रटते थे लेकिन अपने प्रिय संत को सोऽहं साधना बताई |अगले ऋषि प्रसाद में तुम पढ़ोगे | इस महा मंत्र का आत्मसाक्षात्कार  से सीधा सम्बन्ध है  | लोक लोकांतर में जाना नहीं पड़ता मरने के बाद वाली सायुज्य , सालोक्य , सामीप्य आदि से भी विलक्षण जीवन्मुक्ति यहीं जीते जी होती है | जिसको श्री कृष्ण ने अपने प्यारे अर्जुन को अनुभव कराया -- ज्ञानं लब्ध्वा परां शान्तिमचिरेणाधिगच्छति 

और अर्जुन ने अनुभूति कही - नष्टो मोहः स्मृतिर्लब्धा त्वप्रसादान्मयाच्युत

 अर्जुन के वे दिन आए , हनुमानजी के आए , मेरे गुरूजी ने मुझे वे दिन दिखाए | अब तुम्हारा गुरूजी तुमको वे दिन दिखाना चाहते हैं | 

आनंद हुआ , मौज हुई |

तुम्हारा संकल्प जल्दी फलेगा कि बापू बाहर  आएँ  और साधक आत्मा परमात्मा में पहुँचे | यह मेरा संकल्प भी जल्दी फले |

ॐ आनंदम्  , सोऽहं  |

4.3.2015

Previous Article Pujya Bapuji Message from Jodhpur 11 Nov 2014
Next Article बापूजी का गुरुपूनम के निमित संदेश 2015
Print
3136 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.
RSS