प्रश्नोत्तरी

परिप्रश्नेन विडियो

आध्यात्मिक

तात्त्विक

सिद्धासन

Ashram India 0 0 Article rating: No rating

ब्रह्मचर्य-पालन में यह आसन विशेष रूप से सहायक होता है। विचार पवित्र बनते हैं। मन एकाग्र होता है। सिद्धासन का अभ्यासी भोग-विलास से बच सकता है। 72 हजार नाड़ियों का मल इस आसन के अभ्यास से दूर होता है। वीर्य की रक्षा होती है। स्वप्नदोष के रोगी को यह आसन अवश्य करना चाहिए।

Shri Guru Ramayan

Shri Guru Ramayan

Audio 0 235 Article rating: 3.5

श्लोक एवं अनुवाद

* अथ प्रथमो सर्गः * अथ द्वितियो सर्गः * अथ तृतियो सर्गः * अथ चतुर्थो सर्गः * मोक्षधामः * अथ पंचमो सर्गः * श्रीगुरुवन्दना

Balsanskar

Balsanskar

Audio 0 398 Article rating: 3.7

मनुष्य के भावी जीवन का आधार उसके बाल्यकाल के संस्कार एवं चारित्र्यनिर्माण पर निर्भर करता है। बालक आगे चलकर नेता जी सुभाषचन्द्र बोस जैसे वीरों, एकनाथजी जैसे संत-महापुरूषों एवं श्रवण कुमार जैसे मातृ-पितृभक्तों के जीवन का अनुसरण करके सर्वांगीण उन्नति कर सकें इस हेतु बालकों में उत्तम संस्कार का सिंचन बहुत आवश्यक है। बचपन में देखे हुए हरिश्चन्द्र नाटक की महात्मा गाँधी के चित्त पर बहुत अच्छी असर पड़ी, यह दुनिया जानती है।

Parvo ka Punj: Deepavali

Audio 0 127 Article rating: No rating

मानों ना मानों ये हकीकत है । खुशी इन्सान की जरूरत है ।।
महीने में अथवा वर्ष में एक-दो दिन आदेश देकर कोई काम मनुष्य के द्वारा करवाया जाये तो उससे मनुष्य का विकास संभव नहीं है । परंतु मनुष्य यदा-कदा अपना विवेक जगाकर उल्लास, आनंद, प्रसन्नता, स्वास्थ्य और स्नेह का गुण विकसित करे तो उसका जीवन विकसित हो सकता है ।
...

Sanskar Darshan

Sanskar Darshan

Audio 0 137 Article rating: 4.0

किसी भी घर, समाज अथवा देश की शान बुलंद करनी हो तो उसके बालकों एवं विद्यार्थियों को बुलंद करना चाहिए । इसी सूत्र को लक्षित कर ‘संत श्री आशारामजी आश्रम’ द्वारा संचालित बालसंस्कार केंद्रों में बच्चों एवं विद्यार्थियों में किए जा रहे सुसंस्कार-सिंचन का दर्शन करानेवाली या पुस्तक ‘संस्कार दर्शन’ विद्यार्थियों अभिभावको शिक्षकों एवं बाल संस्कार केंद्र के संचालकों, सभी के लिए ज्ञान का एक उत्तम खजाना है ।  विद्यार्थियों के जीवन-निर्माण हेतु या एक अनमोल उपहार है

RSS
1345678910Last

आश्रमवासी द्वारा उत्तर

How to obtain Saraswatya mantra diksha?

Admin 0 496 Article rating: No rating

Guruji I wanted a saraswati mantra diksha from you. I want to excel in my studies. Im surprised to see so much miracles and blessings you are showering upon your followers

RSS
1345678910Last

ध्यान विषयक

निद्रा का व्यवधान क्यों होता है और उसका निराकरण कैसे होता है प्रभु ?

Admin 0 6002 Article rating: 4.3
श्री हरि प्रभु ! चालू सत्संग में जब मन निःसंकल्प अवस्था में विषय से उपराम होकर आने लगता है ,तो प्रायः निद्रा का व्यवधान क्यों होता है और उसका निराकरण कैसे होता है प्रभु ?

ध्यान की अवस्था में कैसे पहुंचे ? अगर घर की परिस्थिति उसके अनुकूल न हो तो क्या करे ?

Admin 0 3239 Article rating: No rating

ध्यान  की  अवस्था  में  कैसे  पहुंचे ? अगर  घर  की  परिस्थिति  उसके  अनुकूल  न  हो  तो  क्या  करे ?

RSS

EasyDNNNews

गुरुदेव ! सदा और सर्व अवस्थाओ में अद्वैत की भावना करनी चाहिए पर गुरु के साथ अद्वैत की भावना कदापि नही करनी चाहिए - ऐसा जो कहा गया है उसका रहस्य समझाने की कृपा करें।

Admin 0 9223 Article rating: 4.3
1 दिसंबर 2010
निरंतर अंक - 216

गुरुदेव ! सबकुछ जानते हुए भी मन में संशय उत्पन्न हो जाता है

Admin 0 6597 Article rating: 4.3
1 जनवरी 2011
अंक - 217
प्रश्न :- गुरुदेव ! सबकुछ जानते हुए भी मन मे संशय उत्पन्न हो जाता है। 
पूज्य बापूजी :- सब कुछ क्या जानते है ?
प्रश्नकर्ता :- जैसे कोई सही चीज हो तो उसके विषय मे मन में द्वंद उत्पन्न होने लगता है कि यह ऐसा है कि ऐसा है ?



RSS
123

Q&A with Sureshanand ji & Narayan Sai ji

कैसे जाने की हमारी साधना ठीक हो रही है ? कैसे पता चले के हम भी सही रस्ते है? कौनसा अनुभव हो तो ये माने की हमारी साधना ठीक चल रही है ?

पूज्य श्री - सुरेशानंदजी प्रश्नोत्तरी

Admin 0 5844 Article rating: 3.5
RSS
12