आध्यात्मिक होली के रंग रँगे

होली हुई तब जानिये, पिचकारी गुरुज्ञान की लगे |

सब रंग कच्चे जाय उड़, एक रंग पक्के में रँगे |  

पक्का रंग क्या है ? पक्का रंग है ‘हम आत्मा है’ और ‘हम दु:खी है, हम सुखी है, हम अमुक जाति के है ....’ - यह सब कच्चा रंग है | यह मन पर लगता है लेकिन इसको जाननेवाला साक्षी चैतन्य का पक्का रंग है | एक बार उस रंग में रँग गये तो फिर विषयों का रंग जीव पर कतई नहीं चढ़ सकता |

‘Holi is celebrated in the real sense when you get sprinkled with the colour of Guru’s Knowledge. 
All other colours should fade out and the fast colour (of non-duality) should remain.’ 

Which is the fast colour? ‘I am Atman’ is the fast colour and ‘I am happy; I am unhappy; I am so and so; I am of so and so, I am Patel’ are fading colours. These fading colours dye the mound but the witness to the mind is Pure Consciousness. It is the fast colour. Once one is dyed in that colour, one is never dyed or influenced by the colours of sensual pleasures.

 
Holi, the festival to eradicate meanness of the heart
Ashram India

Holi, the festival to eradicate meanness of the heart

(Holi: 12th March, Dhulendi: 13th March)

Reap the true benefits of Holi

होलिकां आगतां दृष्ट्वा हृदयी हर्षन्ति मानवाः ।

पापमुक्तास्तु संजाता क्षुद्रता विलयं गताः ।।

The mere arrival of the festival of Holi delights people; makes them sinless and free from meanness. The narrowness of the heart and the unhappiness of the heart is meanness. To get delighted in one’s own heart is to get rid of meanness.


It is good to get delight in the heart but with the condition that it is not through sinning but removing sin. If the heart is delighted by sinning, that delight will last for some time and cause grief for a long time. The person who is delighted by removing sin will become a qualified aspirant to have the experience of the Truth of Supreme Brahman, Supreme Self which is free from all modifications of mind as his own being. One, who gets pleasure through sinning, heads towards downfall and one who rejoices in removing sin gets elevated. The peace experienced by the removal of sin, doing virtuous acts and hearing pious satsang is the sign of journey to real uplift.


So poverty of heart should go. One is the material poverty –there is a dearth of materials and the other is the poverty of heart- a dearth of materials may or may not be there but the heart is narrow, stingy. On such festivals, things should be brought for the many.


The festival of Holi points towards breaking the narrow boundaries of the mind but unfortunately people do such acts even on such festivals that increase the narrow-mindedness. In fact, all these festivals have national, social, spiritual and hygienic elements in them but petty minded people suffer harm in place of getting benefit and cause harm to others also by indulging in all sorts of vices. To derive pleasure in hurling abuse at somebody or insulting somebody or sprinkling harmful chemical colour on somebody is not true joy. To smear chemical colour, coal tar etc. on someone’s body, to behave indecently or to drink alcohol will degenerate the heart to the meanest level.


The unique message of health care


This is a spring festival. Therefore people should take out Prabhatferis (chanting procession in early morning) for protecting both their health and mind (from thought pollution) besides spreading vibes of divine love and gentlemanliness in society. Such processions should move in each and every street and alley. Chaitanya Mahaprabhu was born on the full moon day of Holi. We should stage dramas based on the lives of such saints who distributed divine joy in society.


Parched grains like maize, grams, wheat etc. should be consumed and fed to others in order to eliminate Kapha etc. accumulated in the body due to the change in season. Huge bundles of wood are burnt and people circumambulate it so that the heat from the fire provides warmth to the body and melts the Kapha within. We offer a coconut into the fire signifying the offering of our head of egotism in the fire of Knowledge. If you want to see in which culture the arrangement based on subtle studies is made for the uplift of man on physical, mental, social and spiritual planes, you will find it in Indian culture.


होलिका आगतां दृष्ट्वा...  The mere thought of the arrival of Holi delights people’s hearts. Even modern science claims that when man is restless, disturbed and sad within he indiscriminately indulges in drink and sex. One whose heart is pure and peaceful does not indulge in drink or sex. He will drink cups of wine divine himself and give the same to others. He will wake up in the bliss of Narayana and help others do the same.


Celebrate Holi this way


A 20 days’ long celebration from the Ekadashi day to the 2nd lunar day should be organised on the occasion of Holi. The youngsters and the youth should find themselves a noble act of social service during these days. The pious morning environment as well as the sublime influence of the divine chanting will also prove beneficial to them. It would be a great service on the part of the youngsters and youth if they persuaded other youngsters and youths on the right path by saying affectionately, “This festival is for drinking the wine divine in the pegs of hearts rather than ruining one’s family by drinking the poison of alcohol.”


The womenfolk may fill enthusiasm in their family by way of singing Holi songs; while brothers may make a resolve to start their life afresh after burning the garbage of ill feelings on this day. Reading, hearing and teaching religious stories like Bhagavata, Ramayana and biographies of great men is beneficial during these days.


After Holi, the rays of the sun fall vertically on the earth and days start getting longer. Due to this, the Kapha deposited in the body melts and comes into the stomach reducing the appetite. It initiates a disturbance in the seven dhatus and seven colours of the body which increase the chance of an increase in Pitta causing some anger in one’s nature. 


In order to make natural and wholesome Holi colours, soak Palaash (Butea Frondosa) or Marigold flowers in water one day before the Holi. Then add a few drops of oil to it in the morning and boil it.  The flowers will give more colour. If you are using Marigold flowers, you may mix some turmeric powder to it; if Palaash flowers are used instead, you may add some food colour used in preparing Jalebis if you so wish. Celebrating Holi using such colours balances the seven dhatus and seven colours in our body and increases our tolerance to heat.


This festival of Holi brings joy and happiness and if we celebrate it sensibly it also brings good character and affection along. So let’s all together take a pledge, that, as a female demon Dhondha was burnt on this day, we too burn the evil tendencies present in our mind. Like the Brahmins offer oblations to fire, we too mentally offer the oblations of lust, anger, fear, grief and worry in the gastric fire and become luminous.


Rishi Prasad Issue - 290

Previous Article Holi: The Festival to Kindle love for the Master Dyer
Next Article हृदय की क्षुद्रता मिटाने का पर्व : होली
Print
5142 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.

होली पर्व निमित्त प्रचार सामग्री

होली निमित्त प्रचार सामग्री इस लिंक पर उपलब्ध है |

 डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पर क्लीक करें -


इस लिंक में आप पाएंगे -
१) होली भजन
२) होली पम्फलेट
३) होली फ्लेक्स/बैनर


 

holi tips

मंत्र – साफल्य दिवस : होली
होली के दिन किया हुआ जप लाख गुना फलदायी होता है | यह साफल्य – दिवस है, घुमक्कड़ों की नाई भटकने का दिन नहीं है | मौन रहना, उपवास पर रहना, फलाहार करना और अपना-अपना गुरुमंत्र जपना |

इस दिन जिस निमित्त से भी जप करोंगे वह सिद्ध होगा | ईश्वर को पाने के लिए जप करना | नाम –जप की कमाई बढ़ा देना ताकि दुबारा माँ की कोख में उलटा होकर न टंगना पड़े | पेशाब के रास्ते से बहकर नाली में गिरना न पड़े | होली के दिन लग जाना लाला- लालियाँ ! आरोग्य मंत की भी कुछ मालाएँ कर लेना |

अच्युतानन्तगोविन्द नामोच्चारणभेषजात | 
नश्यन्ति सकला रोगा: सत्यं सत्यं वदाम्यहम ||

‘ हे अच्युत ! हे अनंत ! हे गोविंद ! – इस नामोच्चारणरूप औषध से तमाम रोग नष्ट हो जाते है, यह मैं सत्य कहता हूँ, सत्य कहता हूँ |’ (धन्वंतरि महाराज)

दोनों नथुनों से श्वास लेकर करीब सवा से डेढ़ मिनट तक रोकते हुए मन–ही–मन दुहराना –

नासै रोग हरै सब पीरा | जपत निरंतर हनुमत बीरा ||

फिर ५० से ६० सेकंड श्वास बाहर रोककर मंत्र दुहराना | इस दिन जप-ध्यान का फायदा उठाना, काम-धंधे तो होते रहेंगे | अपने-अपने कमरे में गोझरणमिश्रित पानी से पोता मारकर थोडा गंगाजल छिडक के बैठ जाना | हो सके तो इस दिन गोझरण मल के स्नान कर लेना | लक्ष्मी स्थायी रखने की इच्छा रखनेवाले गाय का दही शरीर पर रगड़ के स्नान कर लेना | लेकिन वास्तविक तत्त्व तो सदा स्थायी है, उसमें अपने ‘मैं’ को मिला दो बस, हो गया काम !

ब्रम्हचर्य-पालन में मदद के लिए “ॐ अर्यमायै नम:” मंत्र का जप बड़ा महत्त्वपूर्ण है |

 

 

कारोबार में बरकत बढ़ाने के लिए :-
कारोबार में बरकत बढ़ाने के लिए
होली की रात को दूध और चावल की खीर बनवा ले घर पे ... भले एक कटोरी | होली की रात को चन्द्रमा को अर्घ्य दें ... दीपक जलाकर दिखा दें और कटोरी में खीर जो है वो थाली में रख दें ..मन ही मन प्रार्थना कर लें" हे भगवान! भगवद गीता में आपने कहा है नक्षत्रों का अधिपति चन्द्रमा में हूँ | हे भगवन! आज हमने अपने घर पे आपके लिए ये प्रसाद तैयार किया है | आप इसको स्वीकार करें | "
और ये मंत्र जपें :-
ॐ सोमाय नमः
ॐ चन्द्रमसे नमः
ॐ रोहिणी कान्ताये नमः
ऐसा करके थोड़ी देर प्रार्थना करके शांत हो कर बैठें |
होली की रात तो ये करने से जिनका अपना काम काज है उसमें बरकत निश्चित रूप से होती है और गुरुमंत्र का जप करें |
किसी को आर्थिक तकलीफ़ हो
किसी को आर्थिक तकलीफ़ हो तो होली की पूनम के दिन एक समय ही खाना खायें, एक वक़्त उपवास करें अथवा तो नमक बिना का भोजन करें होली की रात को खीर बनायें और चंद्रमा को भोग लगाकर उसे लें; दिया दिखा दें चंद्रमा को; एक लोटे में जल लेकर उसमें चावल, शक्कर, कुमकुम, फूल, आदि डाल दें और चंद्रमा को ये मंत्र बोलते हुए अर्घ्य दें;
दधीशंख: तुषाराभम् क्षीरोरदार्णव संनिभम्
नमामि शशिनं सोमं शम्भोर्मुकुटभूषणम्
(Dadhi-shankha Tushaarabham Ksheeror-daarnava sannibhamNamami Shashinam Somam Shambhor-mukuta-bhooshanamI pray to the Moon who shines coolly like curds or awhite shell, who arose from the ocean of milk, who hasa hare on him, Soma, who is the ornament of Shiva'shair.)
हे चंद्र देव! भगवान शिवजी ने आपको अपने बालों में धारण किया है, आपको मेरा प्रणाम है
अगर पूरा मंत्र याद न रहे तो“ॐ सोमाय नमः , ॐ सोमाय नमः”, इस मंत्र का जप कर सकते हैं
-श्री सुरेशानंदजी मुंबई 3rd Feb'2012
http://www.ashram.org/HealthyLiving/GeneralTips/tabid/1341/ArticleId/3934/.aspx
होली के दिन –
होली का दिन चंद्रमा का प्रागट्य दिन है | जो लोग सदा किसी न किसी दुःख से पीड़ित रहते हो , तो दुःख और शोक दूर करने के लिए विष्णु-धर्मोत्तर ग्रंथ में बताया है कि होली के दिन भगवान के भूधर स्वरुप अर्थात पृथ्वी को धारण करनेवाले भगवान का ध्यान और जप करना चाहिये | मंत्र बोलना चाहिये होली के दिन इनका विशेष माहात्म्य और फायदे है -
ॐ भूधराय नम:..... ॐ भूधराय नम: ..... ॐ भूधराय नम:
और नीचे श्लोक एक बार बोलना और भगवान को, गुरु को विशेषरूप से प्रणाम और पूजन कर लें –
धरणीम् च तथा देवीं अशोकेती च कीर्तयेत् |
यथा विशोकाम धरणी कृत्वान्स्त्वां जनार्दन: ||
( हे भगवान जब जब भी पृथ्वी देवी असुरों से पीड़ित होकर आपको पुकारती है , तब तब आप राक्षसों का वध करते है और पृथ्वी को धारण करके उसका शोक दूर कर देते है | ऐसे आप भगवान मेरे भी शोक, दुःख आदि का हरण करे और मुझे धारण करें | ) खाली होली के दिन ये करें |
और होली के रात को चंद्रमा को अर्घ्य देना चाहिये | जिनके घर मे पैसों की तंगी रहती है, आर्थिक कष्ट सहना पड़ता है | तो होली के रात दूध और चावल की खीर बनाकर चंद्रमा को भोग लगाये | पानी, दूध, शक्कर, चावल मिलाकर चंद्रमा को अर्घ्य दे , दिया जलाकर दिखायें और थोड़ी देर चंद्रमा की चाँदनी में बैठकर गुरुमंत्र का जप करें | और प्रार्थना करें हमारे घर का जो आर्थिक संकट है वो टल जायें, कर्जा है तो उतर जाये | होली की रात फिर बैठकर जप करें बहुत फायदा होगा | चंद्रमा उदय होने पर चंद्रमा में भगवान विष्णु, लक्ष्मी और सूर्य की भावना करके अर्घ्य देना चाहिये , कि सामने भगवान विष्णु ही बैठे है | भगवान ने गीता में कहा ही है कि नक्षत्रों का अधिपति चन्द्रमा मैं ही हूँ | ये शास्त्रों की बात याद रखे कि दुःख की और कर्जे की ताकत नहीं कि उस आदमी के सिर पर बना रहे |
श्रीर्निषा चन्द्र रुपस्त्वं वासुदेव जगत्पते |
मनोविलसितं देव पूर्यस्व नमो नमः ||
ॐ सोमाय नम: |
ॐ नारायणाय नम: |
ॐ श्रीं नम: |
लक्ष्मीजी का मंत्र – ॐ श्रीं नम: होली की रात घर मे आर्थिक परेशानी को दूर भगाने वाला ये सरल प्रयोग है |
- Shri Sureshanandji 19th Feb' 2013 Aurangabad
http://www.ashram.org/HealthyLiving/GeneralTips/tabid/1341/ArticleId/4107/.aspx
होली के दिन
भगवान विष्णु ने वराह अवतार लेकर धरती का दुःख मिटाया था | भगवान विष्णु ने धरती को धारण किया था.... तो हम भी उसी धरती पर हमारे अमुक अमुक दुःख कष्ट है वो नष्ट हो जाये | ऐसा भाव करके होली के दिन इस मंत्र की एक माला करे ..
" ॐ भूधराय नम: | .... ॐ भूधराय नम: || "
- Shri Sureshanandji Surat 26th March' 2013

 

 


होली के दिन हनुमान जी के पूजा का विशेष विधान है, हो सके तो करना | पूजा का मतलब यह जरूरी नहीं के हनुमान जी के आगे दिया जलाये तब ही वे प्रसन्न होंगे |

“श्रीगुरु चरण सरोज रज, निज मनु मुकुर सुधारि बरनउ रघुवर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि”,

” मनोजवं मारुततुल्य वेगं जितेन्द्रियं बुद्धिमतां वरिष्ठं | वातात्मजं वानरयूथ मुख्यं श्री राम दूतं शरणं प्रपद्ये || ”

ऐसी प्रार्थना कर दी, वे राजी हो जायेंगे | होली के दिन एक बार जरूर कर लें, बहुत लाभ होगा |

होली के दिन शास्त्रों में लक्ष्मी माता की पूजा का भी विधान बताया गया है | वह कपूर का दिया जलाकर करें | थोड़ा सा ही कपूर जलाये | होली का पर्व दरिद्रता का नाश करनेवाला पर्व है |

– श्री सुरेशानंदजी

होली के बाद स्वास्थ्य Health after Holi

रघु राजा, प्रल्हाद, हिरण्यकशिपु के साथ-साथ ऋतू-परिवर्तन से भी होली का सीधा सबंध है | 

तुम्हारे अंदर जो आलस्य अथवा जो कफ जमा है, उसको कूद-फाँद करके रास्ता देने के लिए होली है |

इस उत्सव में कूद-फाँद नहीं करें तो आलसी और नीरस बन जाते है |

‘ होली के बाद २० दिन तक नमक कम खाऊँगा | २०-२५ निम् के पत्ते २-३ काली मिर्च के साथ खाऊँगा |’ – यह आरोग्य क लिए व्रत है |

 ‘संसार व्यवहार में थोडा संयम करूँगा, पति-पत्नी के संबंध में ब्रम्हचर्य पालूँगा |’ – यह दीर्घ जीवन के लिए व्रत है |

 इन दिनों में भुने हुए चने  ‘होला’ का सेवन शरीर से वात, कफ आदि दोषों का शमन करता है | होली के बाद खजूर न खायें |

शरीर स्वस्थ रहे इससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण है मन स्वस्थ रखना, ‘स्व’ में स्थित रखना | 

मन को अपने मूल स्वभाव में ले जाओ | जैसे तरंग का मूल स्वभाव पानी है, ऐसे मन का मूल स्वभाव परमात्म-शांति, परमात्म-प्रेम व परमात्मा की आवश्यकता है |

Bapu asaram health hindi holi

Holi is related not only to the stories of King Raghu, Hiranyakashyapu and Prahlad but also to change of seasons.

Holi is also meant for removing your slothfulness and the by capering and jumping. It also aims at removing deposited kapha from the body. 

If you don’t play and jump in Holi, you become lazy and joyless.
One should vow not to take much salt and take 20-25 leaves of Neem with 2-3 black peppercorns for 20 days after Holi.

This vow is for health. And one should also vow to have less sexual intercourse for longevity. Roasted raw grams pacify the aggravated Kapha and Vata humours.

 Dates should not be consumed after the Holi.

More important than physical health is mental health; to repose the mind in the Self. Bring the mind back to its essential nature.

Just as the essential nature of a wave is water the essential nature of mind is Divine Peace, Divine Love and Yearning for the Divine.


Health holi spring india palash neem Bapu asaram