Audio Anubhav



Video Anubhavs


Divine Experiences

sdf
df
xD
xsd
मिटी कष्टों की तपन
सन् 2001 में मुझे पूज्य बापू से दीक्षा लेने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। 29 जुलाई 2003 की शाम को एक ट्रक एवं बस के बीच में आकर मेरा एक्सीडेंट हो गया। मेरी छाती की कुल 19 हड्डियाँ टूट गयीं एवं गले के नीचे की दाहिनी तरफ की हड्डी टूटकर लटक गयी। मुझे यहाँ के सुप्रसिद्ध ‘कलकत्ता हास्पिटल’ में ले जाया गया। दूसरे दिन वहाँ के डॉक्टरों ने मेरे घरवालों को मुझे आखिरी बार आकर देख लेने के लिए कहा। यह जानकर कोलकाता आश्रम में उपस्थित 300 साधक भाई-बहनों एवं मेरे घरवालों ने मेरे जीवन की रक्षा के लिए पूज्य बापू जी से प्रार्थना की एवं सामूहिक रूप से 21 बार ‘महामृत्युंजय मंत्र’ का जप किया। बापूजी की कृपा से मैं मौत के मुँह से बाहर आ गया, मुझे दूसरा जन्म मिला है। मुझ पर राहू ग्रह की बाधा चल रही है और वह कई वर्षों तक चलेगी ऐसा एक मशहूर ज्योतिषी ने 15 वर्ष पहले मुझे बताया था। उनके अनुसार अभी भी राहु के प्रभाव के कारण मेरा कुछ बुरा वक्त बाकी है। मैंने दीक्षा लेने से पूर्व 11 वर्षों तक कामकाज में तथा और भी कई प्रकार से तकलीफें सहन कीं। मगर पूज्य बापू जी से दीक्षा लेने के बाद मेरा काम ठीक चल रहा है। मुझे हर विकट परिस्थिति में ऐसा एहसास होता रहा है कि कोई दैवी शक्ति मेरी मदद कर रही है और मेरे कष्टों का निवारण कर रही है। अब मुझे एकदम निश्चिंतता महसूस होती है। पहले मैं करीब 20-25 ज्योतिषियों के पास जाता था। हर कोई ग्रहबाधा की बात कहते है। मगर बापू जी से दीक्षा लेने के बाद मुझे कभी भी ज्योतिषियों के पास जाने की जरूरत महसूस नहीं हुई, न कभी इसका ख्याल ही आया। आत्मज्ञान एवं योग-सामर्थ्य दोनों का अनोखा संगम जिनमें है, ऐसे मेरे सदगुरुदेव की शरण में आने वालों की कठिनाइयाँ तथा विपत्तियाँ छू हो जाती हैं और उनकी समझ बहुत ऊँची हो जाती है। पूज्य बापू जी का सत्संग सुनने से व्यक्ति देहभाव से ऊपर उठ जाता है। तन-मन तक ही जिनका प्रभाव रहता है वे बेचारे ग्रह उसे क्या हानि पहुँचा सकेंगे ? वे तो उसके अनुकूल होने में ही अपना अहोभाग्य समझेंगे।

राकेश अरोरा, पी-808, लेक टाउन, फर्स्ट फलोर
ब्लाक – ए, कोलकाता, – 89
ऋषि प्रसाद, मार्च 2005, पृष्ठ संख्या 29, अंक 147

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ
‘मामरा बादाम मिश्रण’ का चमत्कारिक प्रभाव
मैं आज यह जानकर अत्यंत हर्ष का अनुभव कर रही हूँ कि मेरे चश्मे का नं + 4 से घटकर – 2 हो गया है। मैं इस चमत्कार का पूर्ण श्रेय निःसंदेह ‘श्री योग वेदांत सेवा समिति’ द्वारा निर्मित ‘मामरा बादाम मिश्रण’ को दूँगी। 1997 में ‘के.जी.एम.सी.’ के डॉक्टरों ने मेरी आँखों का परीक्षण कर पूरे विश्वास के साथ कह दिया था कि “जीन्स का असर होने के कारण आपके चश्मे का नंबर घटने का कोई प्रश्न ही नहीं उठता। बस, चश्मे का नंबर यही रहे, बढ़े नहीं तो भी आप समझियेगा कि आप पर बड़ी कृपा है।” परंतु गत दो महीने पूर्व एक साधक श्री राम आशीष जी ने मुझे ‘मामरा बादाम मिश्रण’ के नियमित सेवन का परामर्श दिया। उनका परामर्श मानते हुए मैंने इसका प्रतिदिन 10 ग्राम की मात्रा में दो महीने तक सेवन किया। इसके फलस्वरूप मेरे चश्मे के नंबर में आश्चर्यजनक कमी हुई।
बापू जी के चरणकमलों में शत-शत नमन।

अपर्णा तिवारी, 567/162, आनंद नगर, बरदा रोड, लखनऊ
ऋषि प्रसाद, जनवरी 2005, अंक 145, पृष्ठ संख्या 31

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ
महापाप से बचाकर ईश्वर के रास्ते लगाया
जब हमने दीक्षा नहीं ली थी तब घर में पूज्य बापू जी का एक कैलेण्डर लगा हुआ था। मुझे एक बेटा और एक बेटी है तो तीसरी संतान नहीं चाहिए थी। इसलिए गर्भ रहा तो हम पाप के रास्ते जाकर उसे निकालना चाहते थे। रात में पूज्य बापू जी सपने में आये और बोलेः “ऐसा काम मत कर। यह बड़ा पाप है। ” मैंने सोचा, ‘पहले कभी इस प्रकार इनके दर्शन नहीं किये। टी.वी. पर तथा कैलेण्डर में इन्हें देखा था। उस दिन तो हम रुक गये परंतु सोचा कि ‘चलो, लड़का है या लड़की इसकी जाँच करें।’ दूसरे दिन सुबह चार बजे पूज्य बापू जी सपने में आकर बोलेः ‘लड़की ही है, तू पाप नहीं करेगी।’ और हम गर्भपात के महापाप से बच गये। हम 9 महीने तक पूज्य बापू जी की किताबें तथा ज्ञानेश्वरी, दासबोध आदि ग्रंथ पढ़ते रहे। 9 महीने टी.वी., फिल्मी प्रोग्राम भी नहीं देखा। पूज्य बापू जी के वचन सत्य हुए। मैंने एक कन्या को जन्म दिया और गुरुदेव के निर्दशानुसार 9 महीने बिताने का परिणाम यह हुआ कि मेरी कन्या में जन्मजात भक्ति के संस्कार देखने को मिले एवं उसके जीवन में कई चमत्कारिक घटनाएँ भी घटीं। कैसी लीला है गुरुवर की कि हमें गर्भपात के महापाप से बचाकर ईश्वर के रास्ते लगाया ! अब तो हमारे परिवार के सभी लोग मंत्रदीक्षित हैं। धन्य हैं गुरुवर और उनकी लीलाएँ ! ऐसे गुरुवर के चरणों में

कोटि-कोटि वंदन…..

सौ. विजया प्रह्लाद अंभोरे,
नांदेड़ (महाराष्ट्र)
ऋषि प्रसाद, दिसम्बर 2006, पृष्ठ संख्या 29. अंक 168

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ