Sadhak Articles Library

bipin rai

‘मामरा बादाम मिश्रण’ का चमत्कारिक प्रभाव

मैं आज यह जानकर अत्यंत हर्ष का अनुभव कर रही हूँ कि मेरे चश्मे का नं + 4 से घटकर – 2 हो गया है। मैं इस चमत्कार का पूर्ण श्रेय निःसंदेह ‘श्री योग वेदांत सेवा समिति’ द्वारा निर्मित ‘मामरा बादाम मिश्रण’ को दूँगी। 1997 में ‘के.जी.एम.सी.’ के डॉक्टरों ने मेरी आँखों का परीक्षण कर पूरे विश्वास के साथ कह दिया था कि “जीन्स का असर होने के कारण आपके चश्मे का नंबर घटने का कोई प्रश्न ही नहीं उठता। बस, चश्मे का नंबर यही रहे, बढ़े नहीं तो भी आप समझियेगा कि आप पर बड़ी कृपा है।” परंतु गत दो महीने पूर्व एक साधक श्री राम आशीष जी ने मुझे ‘मामरा बादाम मिश्रण’ के नियमित सेवन का परामर्श दिया। उनका परामर्श मानते हुए मैंने इसका प्रतिदिन 10 ग्राम की मात्रा में दो महीने तक सेवन किया। इसके फलस्वरूप मेरे चश्मे के नंबर में आश्चर्यजनक कमी हुई।
बापू जी के चरणकमलों में शत-शत नमन।

अपर्णा तिवारी, 567/162, आनंद नगर, बरदा रोड, लखनऊ
ऋषि प्रसाद, जनवरी 2005, अंक 145, पृष्ठ संख्या 31

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ
Previous Article मिटी कष्टों की तपन
Print
658 Rate this article:
3.0
Please login or register to post comments.