Latest Sadhaks Blog Posts

आसपास के साधकों, संस्कृतिप्रेमियों से मिल के एकता बढ़ायें

आसपास के साधकों, संस्कृतिप्रेमियों से मिल के एकता बढ़ायें
/ Categories: Sadhak Kya Karen
Visit Author's Profile: AshishAdmin

आसपास के साधकों, संस्कृतिप्रेमियों से मिल के एकता बढ़ायें

आसपास के साधकों, संस्कृतिप्रेमियों से मिल के एकता बढ़ायें। आपस में चर्चा करें व समूह बनायें। साधकों के लिए हर सप्ताह सामूहिक संध्या, बैठक करना, सेवा-साधना हेतु उत्साहवर्धक सत्संग चलाना, सुप्रचार सेवा-संबंधी विचार-विमर्श करना विशेष हितकारी है।
Print
585 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.