Latest Sadhaks Blog Posts

अपने अनुभव का आदर करें

अपने अनुभव का आदर करें
/ Categories: Sadhak Kya Karen
Visit Author's Profile: AshishAdmin

अपने अनुभव का आदर करें

अपने अनुभव का आदर करें । आपके अंदर सत्यस्वरूप अंतर्यामी चैतन्य जगमगा रहा है । अपने उस सद्ज्ञानस्वरूप के अनुभव की निर्मल आँख से सच्चाई को जानें । धर्म, संस्कृति व समाज के हित में पूरा जीवन लगाने वाले करूणासिंधु संतों-महापुरुषों के प्रति किसी अन्य की मान्यता या दृष्टि के आधार पर कोई धारणा न बनायें । अपना जीवन कीमती है, उसे मात्र किसी की मान्यता के आधार पर व्यर्थ करना बुद्धिमानी नहीं है ।

Print
676 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.