Odia Books

Divya Prerna Prakash (Odia)

दिव्य प्रेरणा-प्रकाश (Hindi)



"दिव्य प्रेरणा-प्रकाश" बच्चों व युवक-युवतियों को ओजस्वी-तेजस्वी बनानेवाला, स्वास्थ्यबल, मनोबल एवं प्रभाव बढ़ाने तथा स्वस्थ-सम्मानित जीवन जीने की कला सिखानेवाला सत्साहित्य

इसमें है :

  Read more

Bhagawannam Jap Mahima (Odia)

भगवन्नाम जप-महिमा (Hindi)

"भगवन्नाम जप-महिमा"  मंत्रों में गुप्त अर्थ और उनकी शक्ति होती है, जो अभ्यासकर्ता को दिव्य शक्तियों के पुंज के साथ एकाकार करा देती है । भगवान का मंगलकारी नाम दुःखियों का दुःख मिटा सकता है, रोगियों के रोग मिटा सकता है, पापियों के पाप हर

  Read more

AnanyaYog (Odia)

अनन्य योग (Hindi)

"अनन्य योग"  श्रीमद्भगवद्गीता में भगवान श्रीकृष्ण द्वारा बताये गये अनन्य योग को पूज्य संत श्री आशारामजी बापू ने अपने सत्संगों में सरल व बड़े ही रसमय तरीके से बताया है । पूज्य बापूजी की जीवनोद्धारक अमृतवाणी का संकलन है यह

  Read more

Arogya Nidhi (Part 1) (Odia)

आरोग्यनिधि (भाग-1) (Hindi)

"आरोग्यनिधि (भाग-1)"  सच्चा स्वास्थ्य यदि दवाइयों से मिलता तो कोई भी डॉक्टर, कैमिस्ट या उनके परिवार का कोई भी व्यक्ति कभी बीमार नहीं पड़ता । स्वास्थ्य खरीदने से मिलता तो संसार में कोई भी धनवान रोगी नहीं रहता । स्वास्थ्य इंजेक्शनों, यंत्रों, चिकित्सालयों के

  Read more

Ekadashi Bratkatha (Odia)

एकादशी व्रत कथाएँ (Hindi)

"एकादशी व्रत कथाएँ"  तन-मन के दोषों को दूर कर बुद्धि को तेजस्वी बनाने तथा भगवद्भक्ति में पुष्टि, योग में सफलता एवं मनोवांछित फल देनेवाले एकादशी व्रत की उत्पत्ति, विधि, लाभ आदि की समग्र जानकारियों ये युक्त इस पुस्तक में है :

  Read more

Gagar Me Sagar (Odia)

गागर में सागर (Hindi)

"गागर में सागर"  वेदों को सागर की उपमा दी गयी है । वे ज्ञान के सिंधु तो हैं किंतु जन-सामान्य उनको उपयोग में नहीं ला पाते । उस अथाह ज्ञानराशि को अपने स्वाध्याय, तप एवं आत्मानुभव की ऊष्मा से बादलों का रूप लेकर फिर भक्तवत्सलता के शीतल पवन के

  Read more

Guru Bhakti Yog (Odia)

गुरुभक्तियोग (Hindi)

"गुरुभक्तियोग"  शास्त्रों व महापुरुषों का मत है कि विवेकी मनुष्य को ईश्वर से भी अधिक गुरु की भक्ति करनी चाहिए क्योंकि कोई मनुष्य समस्त शास्त्रों में प्रवीण हो तो भी गुरुभक्ति के बिना आत्मज्ञान नहीं पा सकता ।

  Read more

Shri Guru Gita (Odia)

श्री गुरुगीता (Hindi)

"श्री गुरुगीता"  भगवान शंकर और पार्वतीजी के संवाद से प्रकट हुई ज्ञान-गंगा का संग्रह यह ‘गुरुगीता’रूपी अमृत कुम्भ है । इसमें वर्णित ज्ञान भवरोग निवारण के लिए अमोघ औषधि है । गुरुभक्तों के लिए यह परम अमृत है । गुरुगीता सर्व पाप को

  Read more

Hamare Adarsh (Odia)_

हमारे आदर्श (Hindi)

"हमारे आदर्श"  जीवन में संयम, सदाचार, प्रेम, सहिष्णुता जैसे दैवी गुणों को लाने तथा ऊँचे-में-ऊँचे ध्येय ‘परमात्मप्राप्ति’ को हासिल करने के लिए आदर्श चरित्रों का पठन-पाठन बहुत आवश्यक है । पूज्य संत श्री आशारामजी बापू के सत्संग-प्रवचनों में से

  Read more

Hume Lene Hain Aachhe Sanskar (Odia)

हमें लेने हैं अच्छे संस्कार (Hindi)

"हमें लेने हैं अच्छे संस्कार"  यदि हमें अपने राष्ट्र के भविष्य को उज्ज्वल बनाना हो तो बच्चों में अच्छे संस्कार भरने होंगे क्योंकि वे ही राष्ट्र के भावी कर्णधार हैं । बाल्यावस्था में अच्छे संस्कारों के बीज बच्चों के अंतःकरण में डाल दिये जायें तो अवसर आने पर वे उदित होते हैं ।

  Read more

Ishtasiddhi (Odia)

इष्टसिद्धि (Hindi)

"इष्टसिद्धि"  भाव, विचार, स्वच्छता और पवित्रता से साधना का संरक्षण करते हुए यदि विधिसहित अनुष्ठान किया जाय तो इष्टमंत्र सिद्ध हो जाता है । जिसका इष्ट मजबूत होता है उसका अनिष्ट नहीं हो सकता ।

  Read more

Ishwar Ki Aur (Odia)

ईश्वर की ओर (Hindi)

"ईश्वर की ओर"  जीते-जी स्वयं की मौत का जीवंत दृश्य दिखाकर, सहजतापूर्वक अपने अमरस्वरूप की ओर ले जानेवाला सत्साहित्य

इसमें है -

* बिना मौत के श्मशान यात्रा की अनुभूति करानेवाला दिव्य ध्यान 

  Read more

Jeevan Rasayan (Odia)

जीवन रसायन (Hindi)

"जीवन रसायन"   कोई किसी भी प्रकार से कितना भी भयभीत, चिंतित, शोकातुर, निराश हो उसके लिए आध्यात्मिक टॉनिक का काम करता है यह साहित्य | स्वस्थ  मस्त एवं आत्मस्थ (आत्मा में स्थित) बनानेवाला सत्साहित्य

इसमें है :

  Read more

Jeevan Vikash (Odia)

जीवन विकास (Hindi)

"जीवन विकास"  जीवनशक्ति की रक्षा कर जीवन के बहुमुखी विकास हेतु पथप्रदर्शन करनेवाला सत्साहित्य

इसमें है :

* जीवनशक्ति के ह्रास को रोकने व जीवनशक्ति की वृद्धि करने के उपाय

  Read more

Jivan Jhanki (Odia)

जीवन झाँकी (Hindi)

"जीवन झाँकी"  अनुभवी संतों एवं शास्त्रों का कहना है कि विश्व के कल्याण के लिए जिस समय जैसी सुव्यवस्था की आवश्यकता होती है उसका आदर्श उपस्थित करने के लिए स्वयं भगवान ही तत्कालीन ब्रह्मज्ञानी संतों के रूप में नित्य अवतार लेकर

  Read more
RSS