Bengali Books

Divya Prerna Prakash (Bengali)

दिव्य प्रेरणा-प्रकाश (Hindi)

"दिव्य प्रेरणा-प्रकाश"  बच्चों व युवक-युवतियों को ओजस्वी-तेजस्वी बनानेवाला, स्वास्थ्यबल, मनोबल एवं प्रभाव बढ़ाने तथा स्वस्थ-सम्मानित जीवन जीने की कला सिखानेवाला सत्साहित्य इसमें है :   Read more

Ekadasi Mahatmya (Bengali)

एकादशी व्रत कथाएँ"  तन-मन के दोषों को दूर कर बुद्धि को तेजस्वी बनाने तथा भगवद्भक्ति में पुष्टि, योग में सफलता एवं मनोवांछित फल देनेवाले एकादशी व्रत की उत्पत्ति, विधि, लाभ आदि की समग्र जानकारियों ये युक्त इस पुस्तक में है :

  Read more

Hame Lene Hai Achche Sanskar (Bengali)

हमें लेने हैं अच्छे संस्कार (Hindi)

"हमें लेने हैं अच्छे संस्कार "  यदि हमें अपने राष्ट्र के भविष्य को उज्ज्वल बनाना हो तो बच्चों में अच्छे संस्कार भरने होंगे क्योंकि वे ही राष्ट्र के भावी कर्णधार हैं । बाल्यावस्था में अच्छे संस्कारों के बीज बच्चों के अंतःकरण में डाल दिये

  Read more

IshtaSiddhi (Bengali)

इष्टसिद्धि (Hindi)

"इष्टसिद्धि" भाव, विचार, स्वच्छता और पवित्रता से साधना का संरक्षण करते हुए यदि विधिसहित अनुष्ठान किया जाय तो इष्टमंत्र सिद्ध हो जाता है । जिसका इष्ट मजबूत होता है उसका अनिष्ट नहीं हो सकता ।  मानसिक व बौद्धिक बल का विकास करके अपना

  Read more

Ishwar Ki Aur (Bengali)

ईश्वर की ओर (Hindi)



"ईश्वर की ओर"  जीते-जी स्वयं की मौत का जीवंत दृश्य दिखाकर, सहजतापूर्वक अपने अमरस्वरूप की ओर ले जानेवाला सत्साहित्य इसमें है - *  बिना मौत के श्मशान यात्रा की अनुभूति करानेवाला दिव्य ध्यान   Read more

Jeevan Jhanki (Bengali)

जीवन झाँकी (Hindi)

"जीवन झाँकी"  अनुभवी संतों एवं शास्त्रों का कहना है कि विश्व के कल्याण के लिए जिस समय जैसी सुव्यवस्था की आवश्यकता होती है उसका आदर्श उपस्थित करने के लिए स्वयं भगवान ही तत्कालीन ब्रह्मज्ञानी संतों के रूप में नित्य अवतार लेकर आविर्भूत होते हैं ।   Read more

Jivan Rasayan (Bengali)

जीवन रसायन (Hindi)

"जीवन रसायन " कोई किसी भी प्रकार से कितना भी भयभीत, चिंतित, शोकातुर, निराश हो उसके लिए आध्यात्मिक टॉनिक का काम करता है यह साहित्य |   Read more

Jivan Vikas (Bengali)

जीवन विकास (Hindi)

"जीवन विकास"  जीवनशक्ति की रक्षा कर जीवन के बहुमुखी विकास हेतु पथप्रदर्शन करनेवाला सत्साहित्य इसमें है :  *  जीवनशक्ति के ह्रास को रोकने व जीवनशक्ति की वृद्धि करने के उपाय   Read more

Jivanopyogi Kunjiya (Bengali)

जीवनोपयोगी कुंजियाँ (Hindi)

"जीवनोपयोगी कुंजियाँ" अपनी ऐहिक और पारमार्थिक उन्नति के इच्छुक मनुष्य को साधना में शीघ्र उन्नति व आनंदमय जीवन जीने में सहायक कुंजियों का संग्रह करके यह पुस्तक ‘जीवनोपयोगी कुंजियाँ’ बनायी गयी है ।

  Read more

Jo Jagat Hai So Pavat Hai (Bengali)

जो जागत है सो पावत है (Hindi)

"जो जागत है सो पावत है"  संसार की नश्वरता देखकर भगवान रामजी को वैराग्य हुआ, सिद्धार्थ को वैराग्य हुआ... ऐसे कइयों के पुण्योदय जागृत होते हैं तो वे अपने मनुष्य-जीवन का मुख्य उद्देश्य सिद्ध करने के रास्ते चल पड़ते हैं और आत्मसाक्षात्कर भी कर लेते हैं ।   Read more

Karm Ka Akatya Siddhant (Bengali)

कर्म का अकाट्य सिद्धांत (Hindi)

"कर्म का अकाट्य सिद्धांत" कर्म का अकाट्य सिद्धांत राजा हो या रंक, सेठ हो या नौकर या अवतार लेकर आये भगवान - सभीको स्वीकार करना पड़ता है । अतः हमें कर्म करने में ही सावधान रहना चाहिए । कर्म ऐसे करें कि कर्म विकर्म न बनें, दूषित

  Read more

Kya Kare Kya Na Kare (Bengali)

क्या करें, क्या न करें ? (Hindi)

"क्या करें, क्या न करें ?" पाश्चात्य सभ्यता के अंधानुकरणवश वर्तमान पीढ़ी अपनी भारतीय संस्कृति का सदाचरण-धर्म भूलती जा रही है । कब क्या करना और क्या न करना, इस बारे में शास्त्रसम्मत मार्गदर्शन के अभाव में उसका अधःपतन हो रहा है ।

  Read more

Madhur Vyavhar (Bengali)

मधुर व्यवहार (Hindi)

"मधुर व्यवहार " शास्त्रों का उद्देश्य है - अपना और दूसरों का जीवन मधुमय, प्रभुमय, आत्मानंदमय बनाना । प्रेम, सहानुभूति, सम्मान, मधुर वचन, परहित एवं त्याग-भावना आदि से ही आप हर किसीको सदा के लिए अपना बना सकते हो ।

  Read more

Man Ko Sikh (Bengali)

मन को सीख (Hindi)

"मन को सीख" मनुष्य का मन ही सुख-दुःख, शांति-अशांति, लाभ-हानि, स्वर्ग-नरक की कल्पना करता है और उसी प्रकार की सृष्टि का सृजन करता है । ‘जिसने मन जीता, उसने जग जीता ।’ मन को जीतने का प्रयास करना यही पुरुषार्थ है ।

  Read more

MangalmayJeevan Mrityu (Bengali)

मंगलमय जीवन-मृत्यु (Hindi)

"मंगलमय जीवन-मृत्यु" मृत्यु एक अनिवार्य घटना है जिससे कोई बच नहीं सकता । मृत्यु से सारी जीवनसृष्टि भयभीत है । इस भय से मुक्त होने का कोई मार्ग है ? प्राचीनकाल से ही पल्लवित-पुष्पित हुई भारतीय अध्यात्मविद्या में इसका ठोस उपाय है ।

  Read more
RSS