Books

Jeete Ji Mukti
Jeete Ji Mukti

जीते जी मुक्ति (Hindi)

"जीते जी मुक्ति"  भारतीय दर्शन जीते जी मुक्ति दिलाता है । जीते जी मुक्ति दिलाने की कुंजियाँ संतों के पास होती हैं । दुनिया के लोग कुछ भी देकर माया में ही फँसाते हैं लेकिन संत लोग वह दे देते हैं जो चौरासी लाख जन्मों के पाप-ताप मिटा के जीव को जीते जी मुक्ति का अनुभव करा देता है । उचित आहार-व्यवहार करते हुए आप अपने शरीर को स्वस्थ रखें, सत्संग, सेवा और साधना के द्वारा मन को स्वस्थ रखें एवं गुरु-प्रसाद से जीते जी मुक्ति का अनुभव करने में सफल हों – इस उद्देश्य में मददरूप ‘पूज्य संत श्री आशारामजी बापू के सत्संग-प्रवचनों’ का संकलन है ‘जीते जी मुक्ति’ सत्साहित्य ।

इस सत्साहित्य में है :        

* जीते जी मुक्ति की युक्ति

* दुःखों से छुटकारा कैसे मिले ?

* प्रतीति क्या है और प्राप्ति क्या है ?

* घर-घर में रामराज्य कैसे आयेगा ?

* शरीर तंदुरूस्त कैसे रहे ?

* सत्संग कभी व्यर्थ नहीं जाता

* सत्संग के पुण्य फल का दर्शन

* ...तो माया तरना सुगम है

* समय का सदुपयोग करो

* वेदांत में ईश्वर की विभावना

* सर्व रोगों का मूल

* विश्वास करोगे तो जागोगे

* ऋण चुकाना ही पड़ता है

* अकिंचन सम्राट

* नाम-जप में मन नहीं लगता तो...

* जीवन का अनुभव

* दिव्य विचार से पुष्ट बनो

Previous Article Yogyatra-4
Next Article Alakh Ki Aur
Print
1206 Rate this article:
4.3
Please login or register to post comments.