Books

Shraadh Mahima
Shraadh Mahima

Shraadh Mahima (Hindi)

"श्राद्ध-महिमा"  श्राद्ध की महिमा एवं विधि का वर्णन विष्णु, वायु, वराह, मत्स्य आदि पुराणों एवं महाभारत, मनुस्मृति आदि शास्त्रों में किया गया है । उन्हीं पर आधारित पूज्य संत श्री आशारामजी बापू के प्रवचनों को श्राद्ध-महिमा पुस्तक में संकलित किया गया है जिससे जनसाधाण श्राद्ध की महिमा  से परिचित होकर पितरों के प्रति अपना कर्त्तव्य-पालन कर सके । इसमें है :

* श्राद्ध का विज्ञान - श्राद्ध करने से कैसे होते हैं पितर संतुष्ट ?

* सुख-शांति व उत्तम संतति के अभिलाषी हर इंसान के लिए क्यों है श्राद्ध करना जरूरी ?

* अपने पितरों की सद्गति कैसे करें ?

* मृतात्मा की शांति के लिए भगवद्गीता के 7वें अध्याय का पाठ

* श्राद्धयोग्य ब्राह्ण का चुनाव कैसे करें ?

* वह मंत्र जिसके उच्चारण से पितर होते हैं संतुष्ट

* मौत तो एक पड़ाव है, एक विश्रांतिस्थल है...

* मृतात्माओं की शांति के लिए...

* मृतात्मा के लिए प्रार्थना, भजन, कीर्तन और श्राद्ध का महत्त्व

* वायु पुराण में श्राद्ध परिचय और महिमा

* मृत्यु को मारने का शस्त्र : योग

* श्राद्ध में दान क्या और किसका करें ?

* श्राद्ध में पिण्डदान का महत्तव

* श्राद्ध कितने प्रकार का होता है ?

* श्राद्ध योग्य सर्वश्रेष्ठ तिथियाँ कौन-सी हैं ?

* श्राद्धयोग्य उत्तम स्थान कौन-सा है ?

* श्राद्ध करने का अधिकारी कौन ?

* श्राद्ध में शंका करने का परिणाम व श्रद्धा करने लाभ

* श्राद्ध से प्रेतात्माओं का उद्धार

* ‘गरुड़ पुराण’ में श्राद्ध-महिमा

* तर्पण और श्राद्ध विषयक शंका-समाधान

* किसका श्राद्ध किया जाता है ?

* एकनाथजी महाराज द्वारा किये जा रहे श्राद्ध में पितृगण साक्षात् प्रकट हुए

Previous Article Shri Guru Ramayan
Next Article Yauvan Suraksha-2
Print
1057 Rate this article:
4.3
Please login or register to post comments.