ज्ञान स्वरूप है, आनंद स्वरूप है और प्राणी मात्र का सहृद है, उसको हम कैसे पायें । जिसको हम छोड़ नही सकते उसको कैसे पायें ? और जिसको हम रख नही सकते उसकी वासना कैसे मिटायें ?

पूज्य श्री - सुरेशानंदजी प्रश्नोत्तरी

Admin 0 1327 Article rating: 4.0

शिवपुराण में, सबसे बड़े शिव जी, विष्णु पुराण में सबसे बड़े विष्णु, गायत्री उपासना में सबसे बड़ी माँ, गाणपत्य ग्रन्थ में सबसे बड़े गणपति तो ये क्या है ?

पूज्य श्री - सुरेशानद जी प्रश्नोत्तरी

Admin 0 1760 Article rating: No rating
RSS
135678910Last