AshishAdmin
/ Categories: PR-Allegation-FAQs

आखिर इस षडयंत्र की पीछे कौन है ?

हिन्दू वॉईस पत्रिका के श्री पी. दैवमुत्थु ने कहा की संत आशारामजी बापू ने : 

🔷1) मन्त्र-चिकित्सा, ध्यान, प्राणायाम सीखाकर दवाओं से बचाते है और स्वदेशी वस्तुएं अपनाने की सीख देते हैं | 

🔷 2) भारतीय संस्कृति के प्रति आस्था बढ़ाते हैं |

🔷 3) आदिवासियों में अन्न, मकान, दवाएं, आदि  जीवनपयोगी सामग्रियां बाँटते हैं | 

🔷 4) करोड़ों लोगों को व्यसनमुक्त किया हैं | इससे विदेशी कम्पनियों का खरबों रूपये का नुकसान हुआ, और ईसाई मिशनरी के धर्मान्तरण में रूकावट आई इसलिए मीडिया को मोहरा बनाकर बापूजी के विरुद्ध षडयंत्र किया है | 

🔷 क्या आप जानते हैं ? 8 अगस्त 2008 को एक फैक्स के माध्यम से पूज्य बापू जी को जान से मारने की धमकी दी गयी थी तथा बापू जी से 50 करोड़ रूपये की फिरौती मांगी गयी थी । एक सप्ताह में फिरौती न देने पर पूज्य बापू जी व नारायण साँईं को तंत्रविद्या के, जमीनों के, लड़कियों के तथा अन्य फर्जी केसों में फँसाने की धमकी दी गयी थी । और भी ऐसी बहुत-सी बातें हैं, जिनके कारण यह षड्यंत्र हुआ । 
Previous Article पहले भी ऐसे केसेस हुए है क्या जिसमें सेशन कोर्ट में दोषी करार दिया हो और हाईकोर्ट में निर्दोष बरी हो गए हो ?
Next Article आगे की न्यायिक प्रक्रिया क्या है ?
Print
1916 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.