AshishAdmin
/ Categories: PR-Allegation-FAQs

पहले भी ऐसे केसेस हुए है क्या जिसमें सेशन कोर्ट में दोषी करार दिया हो और हाईकोर्ट में निर्दोष बरी हो गए हो ?

 हाँ, ऐसे कई उदाहरण है, जैसे की साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, कर्नल पुरोहित, निचली अदालत में दोषी साबित हुए फिर उच्च न्यायलय ने उन्हें बाइज्जत बरी कर दिया | शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती निचली अदालत में हत्या के दोषी थे पर उच्च न्यायलय ने केस को फर्जी बताया | स्वामी केशवानंद (द्वारका,गुजरात वाले) निचली अदालत में बलात्कार केस में दोषी साबित हुए, फर्जी केस में उच्च न्यायलय ने उन्हें बरी कर दिया | 
Previous Article पुरुषोत्तम मास में क्या करें, क्या न करें ?
Next Article आखिर इस षडयंत्र की पीछे कौन है ?
Print
2565 Rate this article:
3.5
Please login or register to post comments.